aadgi toh humari zara dekhiye

Saadgi Toh Humari Zara Dekhiye- Jashna-E-Rekhta Full Song Lyrics

Saadgi toh humari Zara dekhiye ,

Aitbaar aapke waade par kar lia

Saadgi toh humari Zara dekhiye ,

Aitbaar aapke waade par kar lia

Baat toh sirf ek raat ki thi magar,

Intezaar aapka umra bhar kar lia.

Antra -1

Ishq mein  uljhane pehle hi kam na thi,

Aur paida naya Dard-E-Sar kar lia

Log darte hain qaatil ki parchaai se,

Humne qaatil ke dil mein bhi ghar kar lia.

Antra -2

Zikra ek bewafa aur sitamgar ka tha

Aapka Aisi baaton se kya waasta

Aap toh bewafa aur sitamgar nahi

Aapne kis liye muh udhar kar lia.

Antra-3

Ek hichki mein keh daali sab dastan

Humne kisse ko yun mukhtsar kar lia.

Humne ghabra ke tanhaiyo se sabaa

Ek dushman ko khud humsafar kar lia.

Baat toh sirf ek raat ki thi magar

Intezaar aapka umra bhar kar liya

Saadgi toh humari Zara dekhiye ,

Aitbaar aapke waade par kar lia.-X2

Lyrics in Hindi-

सादगी तो हमारी ज़रा देखिये
ऐतबार आपके वादे पर कर लिया। X 2
बात तो सिर्फ एक रात की थी मगर
इंतज़ार आपका उम्र भर कर लिया।


इश्क़ में उलझने पहले ही कम न थी
और पैदा नया दर्द-ए-सर कर लिया।

लोग डरते हैं क़ातिल की परछाई से
हमने क़ातिल के दिल में भी घर कर लिया।

ज़िक्र एक बेवफा और सितमगर का था
आपका ऐसी बातों से क्या वास्ता
आप तो बेवफा और सितमगर नहीं
आपने किसलिए मुंह उधर कर लिया।

एक हिचकी में कह डाली सब दास्ताँ
हमने किस्से को यूँ मुख्तसर कर लिया।

हमने घबरा के तन्हाइयों से सबा
एक दुश्मन को खुद हमसफ़र कर लिया।
बात तो सिर्फ एक रात की थी मगर
इंतज़ार आपका उम्र भर कर लिया।

To Check out some other latest song lyrics , Click here

To Watch Original Song by Nusrat Fateh Ali Khan, Click Here

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *